MP के इन चार जिलों में मौसम विज्ञान ने भारी बारिश को लेकर ऑरेंज अलर्ट किया जारी

भोपालः भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने पश्चिमी मध्य प्रदेश के चार जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश होने का पूर्वानुमान शनिवार को व्यक्त किया. आईएमडी ने इस संबंध में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. आईएमडी ने प्रदेश के 28 जिलों में आंधी और बिजली की चेतावनी के साथ भारी बारिश होने के दो अलग-अलग येलो अलर्ट भी जारी किए हैं.

आईएमडी के एक अधिकारी ने कहा कि तीनों अलर्ट रविवार सुबह तक वैध हैं. आईएमडी के भोपाल कार्यालय के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी पीके साहा ने कहा कि ऑरेंज अलर्ट के अनुसार धार, रतलाम, उज्जैन और देवास जिलों में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ बिजली चमकनें के साथ भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है.

13 जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी
साहा ने कहा कि प्रदेश के 13 जिलों मंदसौर, नीमच, दतिया, भिंड, मुरैना, शिवपुरी, आगर-मालवा, शाजापुर, झाबुआ, बैतूल, राजगढ़, नरसिंहपुर और छिंदवाड़ा में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने व गरज के साथ भारी बारिश के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है

15 जिलों में गरज व बिजली चमकने के साथ भारी बारिश के पूर्वानुमान
साहा ने कहा कि इसके अलावा 15 जिलों देवास, मंदसौर, नीमच, शाजापुर, उज्जैन, ग्वालियर, शिवपुरी, श्योपुर, दतिया, अशोक नगर, गुना, भिंड, आगर, रतलाम और मुरैना में अलग अलग स्थानों पर गरज व बिजली चमकने के साथ भारी बारिश के पूर्वानुमान के साथ येलो अलर्ट जारी किया गया है.

तीन दिनों से हो रही रुक- रुक कर बारिश 
मध्य प्रदेश के बड़े हिस्से में पिछले तीन दिनों से रुक- रुक कर बारिश हो रही है. शनिवार सुबह 8.30 बजे से शाम 5.30 बजे के बीच ग्वालियर, बैतूल, रतलाम, और भोपाल शहर में क्रमश: 25.6 मिमी , 12 मिमी , 9 मिमी और 8.4 मिमी बारिश हुई है.

अगस्त की शुरुआत में चंबल संभाग में आई थी बाढ़
साहा ने कहा कि ‘मानसून ट्रफ’ मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ और सीधी जिलों से होकर गुजर रहा है. इसके अलावा चक्रवाती हवाओं का दबाव उत्तर-पूर्व राजस्थान और उससे सटे उत्तर-पश्चिम मध्य प्रदेश पर बना हुआ है. इन दोनों प्रणालियों के मिलने से नमी आ रही है जिससे मध्यप्रदेश में बारिश हो रही है.अधिकारियों के अनुसार, इस महीने की शुरुआत में मध्यप्रदेश के ग्वालियर और चंबल संभाग में भारी बारिश ने कहर बरपाया था जिससे बाढ़ आई थी और एक से सात अगस्त के बीच कम से कम 24 लोगों की मौत हो गई थी.

Related Articles

Back to top button