नित्यानंद राय बनाम तेजस्वी यादवः सीधी चुनौती से क्या दरक जाएगा लालू का MY समीकरण

लोकसभा चुनाव 2024 रण में बिहार फतह की तैयारी शुरू हो गई है. सीएम नीतीश कुमार बिहार में समाधान यात्रा पर निकल रहे हैं. इससे पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बिहार के वैशाली में चुनावी बिगुल फूंक दिया है. 2024 के रण में अपनी फतह के लिए दोनों ओर से तैयारी शुरू हो गई है. बीजेपी बिहार फतह के लिए लालू के ‘माय’ (मुस्लिम-यादव) समीकरण को साधने में लगी है. वहीं, आरजेडी अपने इस परंपरागत वोट को दरकने नहीं देना चाह रही है. बिहार की राजनीति में लालू यादव ने सबसे ज्यादा जिस समीकरण को सियासी रूप से साधा, वो रहा MY समीकरण. या फिर आप कह सकते हैं कि लालू कभी भी अपने इस समीकरण कर दरकने नहीं दिया है. बीजेपी अब लालू के इस समीकरण को ध्वस्त करने के लिए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, बिहार सरकार में पूर्व मंत्री नंद किशोर यादव और लालू प्रसाद के हनुमान कहे जाने वाले बीजेपी सांसद रामकृपाल यादव को लगाया है. यही कारण है कि लालू के छोटे- बेटे और बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के बीच सियासी शीतयुद्द भी जारी है.

‘माय’ वोटों पर बीजेपी की नजर
बीजेपी के सीनियर नेता जानते हैं कि बिहार फतह के लिए लालू प्रसाद यादव की सियासी विरासत में सेंधमारी करना जरूरी है. यही कारण है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बिहार के मुस्लिम बहुल क्षेत्र सीमांचल में अपनी सभा कर पार्टी के नेताओं को मंत्र दिया था कि जब हम बंगाल में मात्र दो सीट से 73 सीट हासिल कर सकते हैं. असम में अपनी सरकार बना सकते हैं तो बिहार क्यों नहीं फतह कर सकते हैं. उन्होंने पार्टी नेताओं से तब कहा था कि बिहार फतह के लिए जरूरी हुआ तो प्रतिमाह बिहार आएंगे.

इसके बाद से ही बीजेपी ने 2024 के रण के लिए बिहार में अपनी सक्रियता बढ़ा दी. पार्टी सूत्रों का कहना है कि बीजेपी ने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री को बिहार के यादवों को अपने पाले में करने के लिए लगा दिया. नित्यानंद राय उसी राह पर चल भी रहे हैं. पूरी प्लानिंग के तहत वो बिहार में आक्रमक यादव नेता के रूप में हमला कर रहे हैं. अपने बयानों को वो अपनी जाति से कनेक्ट करना भी नहीं भूल रहे हैं. इसको लेकर कई बार तेजस्वी यादव और नित्यानंद राय आमने सामने भी हो गए है. राजनीतिक गलियारे में तो इसकी चर्चा भी तेज है कि नित्यानंद और तेजस्वी यादव के बीच 36 का आंकड़ा है.

Related Articles

Back to top button