यूपी के सीतापुर में अपराधों की आयी बाढ़! पुलिस की नाकामी से आमजन में दहशत व्याप्त !


सीतापुर। जिले में इस वक्त दो तरह से बाढ़ आई हुई है। एक तो गांजरी इलाकों में नदी में बाढ़ ने तबाही मचाई है तो वहिं सीतापुर जिले के अलग अलग थाना क्षेत्रों में अपराध बढ़ गया है। लिहाजा आलम यह है कि जिले के हर एक इलाके में सनसनी है और लोग दहशतगर्दी में जी रहे हैं।

सीतापुर में बढ़ रही आपराधिक वारदातों की बात करें तो यहां पर हर 48 घंटे में एक हत्या की वारदात और हर एक हफ्ते में लूट की वारदात अंजाम दी जा रही। यही नहीं महिला अपराधों में भी सीतापुर आउट ऑफ कंट्रोल है और हाल ही में सीतापुर के रामपुर कला थाना क्षेत्र में एक नाबालिग की संदिग्ध रूप से हत्या कर दी गई।

इससे पूर्व पंचायत चुनाव में भी सीतापुर जिले के कमलापुर थाना क्षेत्र के कसमंडा ब्लॉक में दिनदहाड़े बमबारी होने से पुलिसिंग पर बड़े सवाल खड़े हुए हैं। जिसके बाद सीतापुर जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में ताबड़तोड़ हत्याओं का सिलसिला शुरू हो गया। जिसके क्रम में तालगांव थाना क्षेत्र में एक दंपति की हत्या और इसी थाना क्षेत्र में हत्या की वारदात इसके बाद बिसवां में हुई हत्या की वारदात के बाद लहरपुर, इमलिया सदना, महमूदाबाद आदि इलाकों में लगातार हत्या की घटनाएं अंजाम दी जाती रही।

वही सीतापुर के मिश्रिख थाना क्षेत्र के सिधौली मार्ग पर दिनदहाड़े हुई लाखों रुपए लूट की वारदात में भी खुलेआम फायरिंग की गई और अपाचे सवार बदमाशों ने बेखौफ होकर वारदात को अंजाम दिया। वही 2 दिन पूर्व वही 2 दिन पूर्व सीतापुर जिले के रेउसा थाना इलाके में ताजिया दफन करने के दौरान उपद्रवियों द्वारा पुलिस टीम पर और उनकी गाड़ियों पर पथराव कर दिया गया जिसमें किसी तरह पुलिस टीम ने अपनी जान बचाई लेकिन पुलिस की गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गई ऐसे में पुलिस पर किया गया हमला योगी सरकार के उन दावों पर सवाल खड़े करता है जिनमें यह बात बार-बार कही गई थी कि अपराधी या तो सरेंडर हो जाए या प्रदेश छोड़कर चले जाएं।

इसके विपरीत सीतापुर में पंचायत चुनाव में कमलापुर थाना क्षेत्र हुई हद बोलेगी बमबारी के दौरान भागती हुई पुलिस का वीडियो वायरल होना और अब सीतापुर में हाल ही में हुई घटना में पुलिस टीम पर हमला होना और गाड़ियों को थोड़ा जाना प्रदेश सरकार के तमाम बड़े दावों को खोखला साबित कर रहा है।

ऐसे में सीतापुर पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह लगातार घटना का अनावरण कर सवालों से बचने का प्रयास तो कर रहे हैं लेकिन लगातार हो रही वारदातों से पुलिस की कॉम्बिंग, गस्ती और दावों पर प्रश्न चिन्ह लग गया है। ऐसे में सीतापुर पुलिस में एक रिफॉर्म की जरूरत है। री पुलिसिंग की जरूरत है। ताकि पूर्व के वर्षों की तरह सीतापुर में एक बार फिर अमन चैन और शांति की वापसी हो सके।

रिपोर्ट- हिमांशु पुरी

Related Articles

Back to top button